150 Years of Celebrating the MahatmaNational Emblem ISRO Logo
Department of Space, Indian Space Research Organisation

PUBLIC NOTICE - ATTENTION : JOB ASPIRANTS

The current e-procurement site is proposed to switch over to new website. All the registered/new vendors are requested to visit new website at https://eproc.isro.gov.in and validate your credentials for participating with ISRO centres.
DRAFT NATIONAL SPACE TRANSPORTATION POLICY -2020

लार्सन सी रिफ्ट प्रचार, कैलगिंग और हिमशैल विरूपण की निगरानी: वेदास के माध्यम से विकसित स्वचालित तकनीक

अंटार्कटिका, आखरी दक्षिणी महाद्वीप, बर्फ से ढका हुआ भू भाग है। दुनिया के ताजे पानी का 90% अंटार्कटिका में है । यह मोटे तौर पर पूर्व अंटार्कटिका और पश्चिम अंटार्कटिका में विभाजित है । अंटार्कटिक प्रायद्वीप जलवायु परिवर्तन की निगरानी के लिए परीक्षण बेड में से एक है। अंटार्कटिका की बर्फ की व्यापक श्रेणियों में बर्फ की शीट (व्यापक अवधि तक बर्फ की परत से आच्छादित भूभाग), बर्फ शेल्फ (भूभाग से स्थायी रूप से संलग्न अस्थिर बर्फ परत), हिमशैल (अस्थिर भू बर्फ), ग्लेशियर (धीरे ​​खीसकने वाला बर्फ खंड), बर्फ वृद्धि (भूमिगत बर्फ शेल्फ) और समुद्री बर्फ (जम गया हुआ सागर जल)।

लार्सन सी अंटार्कटिका में चौथी सबसे बड़ी बर्फ शेल्फ है । दरार के माध्यम से बड़ा रिफ्ट जो बर्फ के प्रवाह की दिशा में अनुप्रवाह करता है और बर्फ के ब्याने में अग्रदूत के रूप में कार्य करता है। प्रारंभ में, छोटे दरारें अनुदैर्ध्य तनाव के कारण होती हैं जिसके परिणामस्वरूप खाई पैदा होती है और अंत में रिफ्ट बनती है। आइस बर्ग में बर्फ़ प्रसार और बर्फ की विघटन (विघटित) अंटार्कटिक बर्फ मार्जिन में प्राकृतिक घटनाएं हैं। ग्लोबल वार्मिंग को हाल ही में लार्सन सी में असामान्य तेज दरार फैलाने के लिए प्रेरक कारकों में से एक के रूप में जिम्मेदार ठहराया गया है। इस प्रकार इस क्षेत्र पर कई वैज्ञानिक अध्ययनों की ओर ध्यान गया है, और नियमित शोध संबंधी अवलोकन किए गए हैं। लार्सन सी आइस शेल्फ उत्तर में जेसन प्रायद्वीप और दक्षिण में हर्स्ट द्वीप के बीच लगभग 50,000 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में हैं। आइस बर्गों और दरार फैलाने में बर्फ के ढेर के बड़े पैमाने पर विघटन के कारण पिछले दशकों के दौरान लार्सन सी बर्फ शेल्फ पर प्रकाश डाला गया है।

अंटार्कटिक प्रायद्वीप में लार्सन सी बर्फ शेल्फ (~ 50,000 वर्ग किलोमीटर) के बड़े हिस्से के हिमशैल ~ 6,200 वर्ग किलोमीटर तक 10 जुलाई और 12 जुलाई, 2017 के बीच ब्याना हो गया। वैज्ञानिक समुदाय द्वारा हिमशैल को ए68 के रूप में नामित किया गया। इस घटना को टीम एएमएचटीडीजी/ईपीएसए/सैक द्वारा फरवरी 2017 से बारीकी से मॉनिटर किया गया है, जब से लार्सन सी भूभाग से संभावित अलगाव शुरू हो गया था और सैक द्वारा रिपोर्ट किया गया, इंटरनेट पर दिखना शुरू हुआ तब सैकनेट के माध्यम से व्योम और वेदास पर रिपोर्ट किया गया । इसने क्रायोमंडल साइंस के क्षेत्र में काम करने वाले वैज्ञानिकों के बीच रुचि पैदा की है।

बाद में उपलब्ध सार डेटा का उपयोग करते हुए लार्सन सी में कैल्विंग घटनाओं और रिफ्ट प्रसार का पता लगाने और निगरानी करने के लिए स्वचालित तकनीक विकसित की गई। सेंटिनल -1 से सी बैंड सार डेटा (12 दिनों का दोहराव चक्र) यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी द्वारा https://scihub.copernicus.eu/dhus कोपर्निकस साइट के माध्यम से नियमित अंतराल पर उपलब्ध कराया गया है। कोपरनिकस साइट से स्वचालित रूप से डेटा को डाउनलोड और अनझिप करने के लिए सॉफ़्टवेयर मॉड्यूल विकसित किया गया । एक मेटलैब मॉड्यूल को पढ़ने,जियोकोड, चित्ती फिल्टर के लिए विकसित किया गया और सबसेट लार्सन सी क्षेत्र से संबंधित डेटा, जहां बर्फ के बर्ग का गठन किया गया । मेटलैब मॉड्यूल भी उपलब्ध डेटासेट्स पर जीवन घटना और हिमशैल के विकृति के एनीमेशन को बनाएगा और उत्पादों का भंडारण करेगा। 12 दिनों के बाद, यह निर्देशिका में नए डेटा की जांच करेगा, प्रक्रियाओं को दोहराएगा और मौजूदा डेटा सहित एनीमेशन अपडेट करेगा। स्कैटसैट-1 के उच्च विभेदन उत्पाद (2 किमी) डेटा को समायोजित करने के लिए इसी मॉड्यूल को संशोधित किया जा रहा है जो जल्द ही वेदास में उपलब्ध होगा और जिसे भविष्य के रिसैट श्रृंखला के डेटा सेट के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है।

भारत, अपने दो भारतीय अंटार्कटिक अनुसंधान स्टेशन मैत्री और भारती के साथ, नियमित वैज्ञानिक अभियानों और वैज्ञानिक अनुसंधान में भी योगदान दे रहा है। दिसंबर 2017-अप्रैल 2018 के दौरान अंटार्कटिका के लिए अगले भारतीय वैज्ञानिक अभियान के दौरान भारती और मैत्री से संबंधित एक समान मॉनिटरन प्रणाली वेदास में उपलब्ध होगी। सेंटीनेल 1 डेटा के प्रत्येक 12 दिनों के स्वत: डाउनलोड करने के लिए मॉड्यूल और इस क्षेत्र की निगरानी के लिए सैक में संयुक्त रूप से एएमएचटीडीजी और वेदास /ईएसपीए टीम द्वारा विकसित की गई है ।

लार्सन सी रिफ्ट प्रचार, कैलगिंग और हिमशैल विरूपण की निगरानी: वेदास के माध्यम से विकसित स्वचालित तकनीक