Oct 22, 2008

पीएसएलवी-सी11

पीएसएलवी-सी11 की ऊँचाई 44.4 मीटर है और इसके चार चरण हैं जो एकांतर से ठोस एवं द्रव नोदन प्रणालियों का उपयोग करते हैं। प्रथम चरण, जो 138 टन नोदक का वहन करता है, विश्व के बृहद ठोस नोदक बूस्टरों में से एक है। छह ठोस स्ट्रैप-ऑन नोदक मोटर (पीएसओएम-एक्सएल), जिनमें से प्रत्येक बारह टन के ठोस नोदक का वहन करते हैं, प्रथम चरण में पट्टे में बंधे रहते हैं। दूसरा चरण 41.5 टन द्रव नोदक वहन करता है। तीसरा चरण 7.6 टन ठोस नोदक वहन करता है और चौथे में 2.5 टन द्रव नोदक सहित जुड़वाँ इंजन विन्यास है।

विक्रम साराभाई अंतरिक्ष केंद्र (वीएसएससी), तिरूवनंतपुरम ने पीएसएलवी-सी11 को परिकल्पित और विकसित किया। तिरूवनंतपुरम में इसरो की जड़त्वीय प्रणाली यूनिट (आईआईएसयू) ने यान के लिये जड़त्वीय प्रणाली का विकास किया। तिरूवनंतपुरम में ही द्रव नोदन प्रणाली केंद्र (एलपीएससी) ने पीएसएलवी-सी11 के दूसरे एवं चौथे चरणों के लिए द्रव नोदन चरणों और साथ ही साथ, प्रतिक्रिया नियंत्रण प्रणाली का विकास किया। एसडीएससी शार ने ठोस मोटरों को प्रक्रमित किया और वह प्रमोचन संबंधी कार्य निष्पादित करता है। इसरो दूरमिति अनुवर्तन और आदेश संचारजाल (इस्ट्रैक) पीएसएलवी-सी11 के उड़ान के दौरान दूरमिति, अनुवर्तन एवं आदेश सहायता प्रदान करता है।

पीएसएलवी-सी11 के चरणों की एक झलक
 
चरण-1
चरण-2
चरण-3
चरण-4
नामावली
कोर (पीएस1) +छह स्ट्रैप-ऑन(पीएसओएम-एक्सएल)
पीएस2
पीएस3
पीएस4
नोदक
ठोस एचटीपीबी आधारित
द्रव यूएच25+एन2ओ
ठोस एचटीपीबी आधारित
द्वि-नोदक एमएमएच + एमओएन-3
द्रव्यमान (टन)
138.0+6x12
41.5
7.6
2.5
अधिकतम प्रणोद
4910.0
6x720
800
246
7.31X2
ज्वलन समय (से.)
98
49
147
107.6
525
चरण का व्यास (मी.)
2.8
1.0
2.8
2.0
2.8
चरण की लंबाई (मी.)

20.2
12.4

11.9
3.6
2.9
 
नियंत्रण

अक्षनमन और पार्श्ववर्तन के लिए एसआईटीवीसी, लोटन के लिए प्रतिक्रिया नियंत्रक प्रणोद, लोटन नियंत्रण के लिए दो पीएसओएम में एसआईटीवीसी

अक्षनमन और पार्श्ववर्तन के लिए इंजन गिम्बल, लोटन नियंत्रण के लिए तप्त गैस प्रतिक्रिया नियंत्रक मोटर
अक्षनमन और पार्श्ववर्तन के लिए फ़्लेक्स नोज़ल, लोटन के लिए पीएस4 आरसीएस
अक्षनमन, पार्श्ववर्तन और लोटन के लिए इंजन गिम्बल, कोस्ट चरण नियंत्रण के लिए ऑन-ऑफ़ आरसीएस