1 जुलाई को मंगल कक्षित्र मिशन द्वारा लिया गया फोबोस का प्रतिबिंब

Phobos imaged by  MOM on 1st July

1 जुलाई को जब मंगल कक्षित्र मिशन मंगल ग्रह से 7200 कि.मी. की दूरी पर तथा फोबोस से 4200 कि.मी. की दूरी पर था, मंगल कक्षित्र मिशन के ऑनबोर्ड मंगल रंगीन कैमरे (एम.सी.सी.) ने मंगल के सबसे समीप और बड़े चंद्रमा फोबोस का प्रतिबिंब लिया। प्रतिबिंब‍ का स्‍थानिक विभेदन 210 मी. है। यह 6 एम.सी.सी. फ्रेमों से बनाया गया एक संयुक्‍त प्रतिबिंब है तथा यह वर्ण संशोधित है।

व्‍यापक रूप से यह विश्‍वास किया जाता है कि फोबोस कार्बनयुक्‍त कॉन्‍ड्राइट से बना है। फोबोस में आए उग्र चरण को एक विगत टकराव (स्टिकने क्रेटर) तथा बाउंसिंग इजेक्‍टा द्वारा मापे गए एक बड़े भाग में देखा जाता है। फोबोस पर अन्‍य क्रेटरों (श्‍क्‍लोवस्‍की, रोशे एवं ग्रिल्‍ड्रिग) के साथ सबसे बड़ा क्रेटर स्टिकने भी इस प्रतिबिंब में दिखाई पड़ता है।