National Emblem
ISRO Logo

अंतरिक्ष विभाग
भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन

लोक सूचना : सावधान : नौकरी पाने के इच्छुक उम्मीदवार

यू.आर.राव उपग्रह केंद्र (यू.आर.एस.सी), अं‍तरिक्ष विभाग, इसरो, बेंगलूरु में प्रतिनियुक्ति के आधार पर वेतन मैट्रिक्‍स (7वां केंद्रीय वेतन आयोग) के स्‍तर 14 में नियंत्रक के पद की भर्ती (आवेदन की अंतिम तिथि है: 15/11/2021)
चंद्रयान-2 विज्ञान आंकड़ा उपयोगीता के लिए अवसर की घोषणा। प्रस्ताव प्रस्तुत करने की अंतिम तिथि 31 अक्तूबर 2021 है।
वर्तमान ई-प्रापण साइट का नई वेबसाइट में रूपांतरण करना प्रस्तावित है। सभी पंजीकृत/नये विक्रेताओं से नई वेबसाइट https://eproc.isro.in का अवलोकन करने तथा इसरो केंद्रों के साथ भाग लेने के लिए अपने प्रत्यय-पत्र का वैधीकरण करने का अनुरोध किया जाता है।

ISRO Nano Satellites

ISRO Nano Satellites (INS) is a versatile and modular Nano satellite bus system envisioned for future science and experimental payloads. With a capability to carry up to 3 kg of payload and a total satellite mass of 11 kg, it offers immense opportunities for future use. The INS system is developed as a co-passenger satellite to accompany bigger satellites on PSLV launch vehicle. Its primary objectives include providing a standard satellite bus for launch on demand services and providing opportunity to carry innovative payloads.

The primary objectives of INS system are to:

  • Design and develop a low cost modular Nano satellite
  • Provide an opportunity for ISRO technology demonstration payloads
  • Provide a standard bus for launch on demand services
  • Provide an opportunity to carry innovative payloads for Universities / R&D laboratories

PSLV-C37 carried two ISRO Nano Satellites – INS-1A and  INS-1B  as co-passenger satellites, which was launched on Feb 15, 2017.  INS-1C  was launched by PSLV-C40 on Jan 12, 2018, as a co-passenger satellite.