National Emblem
ISRO Logo

अंतरिक्ष विभाग
भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन

लोक सूचना : सावधान : नौकरी पाने के इच्छुक उम्मीदवार

यू.आर.राव उपग्रह केंद्र (यू.आर.एस.सी), अं‍तरिक्ष विभाग, इसरो, बेंगलूरु में प्रतिनियुक्ति के आधार पर वेतन मैट्रिक्‍स (7वां केंद्रीय वेतन आयोग) के स्‍तर 14 में नियंत्रक के पद की भर्ती (आवेदन की अंतिम तिथि है: 15/11/2021)
चंद्रयान-2 विज्ञान आंकड़ा उपयोगीता के लिए अवसर की घोषणा। प्रस्ताव प्रस्तुत करने की अंतिम तिथि 31 अक्तूबर 2021 है।
वर्तमान ई-प्रापण साइट का नई वेबसाइट में रूपांतरण करना प्रस्तावित है। सभी पंजीकृत/नये विक्रेताओं से नई वेबसाइट https://eproc.isro.in का अवलोकन करने तथा इसरो केंद्रों के साथ भाग लेने के लिए अपने प्रत्यय-पत्र का वैधीकरण करने का अनुरोध किया जाता है।
नवंबर 14, 2018

GSLV Mk III-D2 / GSAT-29 Mission

GSLV MkIII-D2, the second developmental flight of GSLV MkIII successfully launched GSAT-29, a high throughput communication satellite at 5.08 pm IST on November 14, 2018 from the Second Launch Pad(SLP) at Satish Dhawan Space Centre SHAR, Sriharikota.

GSLV-Mk III which is three-stage vehicle with two solid motor strap-ons, a liquid propellant core stage and a cryogenic stage, is capable of launching 4 ton class of satellite to Geosynchronous Transfer orbit (GTO).

GSAT-29 satellite with a lift-off mass of 3423 kg, is a multi-beam, multiband communication satellite of India, configured around the ISRO’s enhanced I-3K bus. This is the heaviest satellite launched from India.

GSAT-29 carries Ka/Ku-band high throughput communication transponders which will bridge the digital divide of users including those in Jammu & Kashmir and North Eastern regions of India. It also carries Q/V-band payload, configured for technology demonstration at higher frequency bands and Geo-stationary High Resolution Camera. carried onboard GSAT-29 spacecraft. An optical communication payload, for the first time, will be utilized for data transmission.