National Emblem
ISRO Logo

अंतरिक्ष विभाग
भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन

लोक सूचना : सावधान : नौकरी पाने के इच्छुक उम्मीदवार

यू.आर.राव उपग्रह केंद्र (यू.आर.एस.सी), अं‍तरिक्ष विभाग, इसरो, बेंगलूरु में प्रतिनियुक्ति के आधार पर वेतन मैट्रिक्‍स (7वां केंद्रीय वेतन आयोग) के स्‍तर 14 में नियंत्रक के पद की भर्ती (आवेदन की अंतिम तिथि है: 15/11/2021)
चंद्रयान-2 विज्ञान आंकड़ा उपयोगीता के लिए अवसर की घोषणा। प्रस्ताव प्रस्तुत करने की अंतिम तिथि 31 अक्तूबर 2021 है।
वर्तमान ई-प्रापण साइट का नई वेबसाइट में रूपांतरण करना प्रस्तावित है। सभी पंजीकृत/नये विक्रेताओं से नई वेबसाइट https://eproc.isro.in का अवलोकन करने तथा इसरो केंद्रों के साथ भाग लेने के लिए अपने प्रत्यय-पत्र का वैधीकरण करने का अनुरोध किया जाता है।
सितंबर 26, 2016

पीएसएलवी-C35 / स्कैटसैट -1

पीएसएलवी-C35

भारत के ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान के सैंतीसवें उड़ान (पीएसएलवी-C35) में, मौसम से संबंधित अध्ययन के लिए 371 किलो स्कैटसैट -1 और ध्रुवीय सूर्य समकालिक कक्षा (एसएसओ) में सात सह-यात्री उपग्रहों का प्रमोचन किया गया था । सह-यात्री उपग्रहों में अल्जीरिया से अलसैट -1 बी, अलसैट -2 बी, अलसैट-1N, कनाडा से एनएलएस -19 और संयुक्त राज्य अमेरिका से पाथफैंइडर-1 और साथ ही दो उपग्रह एक आईआईटी बॉम्बे का प्रथम और दूसरा पीइएस विश्वविद्यालय, बेंगलुरू का पीसैट रहें।

स्कैटसैट-1 को 720 किलोमीटर ध्रुवीय एसएसओ में रखा जाएगा; जबकि दो विश्वविद्यालयों/शैक्षणिक संस्थान उपग्रहों और पांच विदेशी उपग्रहों को 670 किलोमीटर ध्रुवीय कक्षा में रखा जाएगा। पीएसएलवी का यह पहला मिशन है जिसमें पेलोडों को दो अलग-अलग कक्षाओं में प्रमोचित किया गया था।

पीएसएलवी-C35 को सोमवार, 26 सितंबर, 2016 को सुबह 9:12 बजे (आईएसटी) पर सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र, (एसडीएससी) शार, श्रीहरिकोटा के पहले लॉन्च पैड (FLP) से प्रमोचित किया गया था।