नवंबर 07, 2020

पी.एस.एल.वी.-सी.49/ई.ओ.एस.-01

PSLV-C49 पी.एस.एल.वी. द्वारा श्रीहरिकोटा से सफलतापूर्वक ई.ओ.एस.-01 तथा नौ ग्राहक उपग्रहों का प्रमोचन

भारतीय ध्रुवीय उपग्रह प्रमोचक रॉकेट पी.एस.एल.वी.-सी.49 ने अपनी इक्‍यावनवीं (51वीं) उड़ान में नौ अंतरराष्‍ट्रीय ग्राहक उपग्रहों के साथ ई.ओ.एस.-01 का सफलतापूर्वक प्रमोचन 07 नवंबर 2020 को सतीश धवन उपग्रह केंद्र (एस.डी.एस.सी.) शार, श्रीहरिकोटा से किया।

पी.एस.एल.वी.-सी.49 (2 ठोस स्‍ट्रेप-ऑन मोटरों सहित) ‘डी.एल.’ संरूपण में पी.एस.एल.वी. की द्वितीय उड़ान है। पी.एस.एल.वी.-सी.49 का उत्‍थापन 1511 बजे (भा.मा.स.) एस.डी.एस.सी. शार, श्रीहरिकोटा के प्रथम प्रमोचन पैड से हुआ। 15 मिनट एवं 20 सेकंड के पश्‍चात ई.ओ.एस.-01 सफलतापूर्वक अपनी कक्षा में अंत:क्षिप्‍त हुआ। तदनंतर नौ वाणिज्यिक उपग्रह अपनी निर्धारित कक्षाओं में अंत:क्षिप्‍त हुए। पृथक्‍करण के पश्‍चात ई.ओ.एस.-01 के दो सौर व्‍यूहों का स्‍वचालित रूप से प्रस्‍तरण हुआ तथा बेंगलूरु स्थित इसरो दूरमिति अनुवर्तन एवं आदेश संचारजाल ने उपग्रह के नियंत्रण का दायित्‍व संभाल लिया है। आगामी दिनों में इस उपग्रह को अपने अंतिम प्रचालनी संरूपण में लाया जाएगा।

ई.ओ.एस.-01 एक भू-प्रेक्षण उपग्रह है, जो कि कृषि, वानिकी तथा आपदा प्रबंधन समर्थन अनुप्रयोगों के लिए है।

लिथुआनिया (1), लक्‍समबर्ग (4) तथा यू.एस.ए. (4) से नौ ग्राहक उपग्रहों का प्रमोचन न्‍यूस्पेस इंडिया लिमिटेड (एनसिल) के साथ वाणिज्यिक व्‍यवस्‍था के तहत हुआ।