National Emblem
ISRO Logo

अंतरिक्ष विभाग
भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन

लोक सूचना : सावधान : नौकरी पाने के इच्छुक उम्मीदवार

यू.आर.राव उपग्रह केंद्र (यू.आर.एस.सी), अं‍तरिक्ष विभाग, इसरो, बेंगलूरु में प्रतिनियुक्ति के आधार पर वेतन मैट्रिक्‍स (7वां केंद्रीय वेतन आयोग) के स्‍तर 14 में नियंत्रक के पद की भर्ती (आवेदन की अंतिम तिथि है: 15/11/2021)
चंद्रयान-2 विज्ञान आंकड़ा उपयोगीता के लिए अवसर की घोषणा। प्रस्ताव प्रस्तुत करने की अंतिम तिथि 31 अक्तूबर 2021 है।
वर्तमान ई-प्रापण साइट का नई वेबसाइट में रूपांतरण करना प्रस्तावित है। सभी पंजीकृत/नये विक्रेताओं से नई वेबसाइट https://eproc.isro.in का अवलोकन करने तथा इसरो केंद्रों के साथ भाग लेने के लिए अपने प्रत्यय-पत्र का वैधीकरण करने का अनुरोध किया जाता है।
दिसम्बर 07, 2016

पीएसएलवी-सी36 / रिसोर्ससैट-2ए

पीएसएलवी-सी36

पीएसएलवी-सी36 इसरो के ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान (पीएसएलवी) की अडतीसवीं उड़ान है जिसने 817 किलोमीटर ध्रुवीय सूर्य समकालिक कक्षा (एसएसओ) में 1235 किलो रिसोर्ससैट -2 ए को स्थापित किया है। पीएसएलवी-सी36 को सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र शार, श्रीहरिकोटा के प्रथम प्रक्षेपण पैड (एफएलपी) से प्रमोचित  किया गया था। पीएसएलवी की 'एक्सएल' संस्करण के इस उड़ान में छह ठोस स्ट्रैप-ऑन मोटरों का इस्तेमाल किया गया था।

पीएसएलवी ध्रुवीय एसएसओ, पृथ्वी से कम दूरी की कक्षाओं (Leo) के साथ ही भू-तुल्यकालिक स्थानांतरण कक्षा (जीटीओ) और उप जीटीओ में कई उपग्रहों को प्रमोचित करने के लिए इसरो का बहुमुखी प्रक्षेपण यान है। 36 सफल प्रक्षेपण के साथ, पीएसएलवी इसरो के वर्कहार्स प्रक्षेपण वाहन के रूप में उभरा है और अंतरराष्ट्रीय ग्राहकों के लिए उपग्रहों की प्रमोचन की पेशकश करता है। 1994-2016 की अवधि के दौरान, पीएसएलवी ने 121 उपग्रहों को, जिनमें से विदेश के 79 उपग्रहों और 42 भारतीय उपग्रहों को, ऑनबोर्ड पर ले गया है।

पीएसएलवी-सी36 / रिसोर्ससैट -2 ए को एसडीएससी शार, श्रीहरिकोटा से 10:25 बजे (आईएसटी) पर दिसंबर 07, 2016 को सफलतापूर्वक प्रमोचित किया गया था।