National Emblem
ISRO Logo

अंतरिक्ष विभाग
भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन

लोक सूचना : सावधान : नौकरी पाने के इच्छुक उम्मीदवार

यू.आर.राव उपग्रह केंद्र (यू.आर.एस.सी), अं‍तरिक्ष विभाग, इसरो, बेंगलूरु में प्रतिनियुक्ति के आधार पर वेतन मैट्रिक्‍स (7वां केंद्रीय वेतन आयोग) के स्‍तर 14 में नियंत्रक के पद की भर्ती (आवेदन की अंतिम तिथि है: 15/11/2021)
चंद्रयान-2 विज्ञान आंकड़ा उपयोगीता के लिए अवसर की घोषणा। प्रस्ताव प्रस्तुत करने की अंतिम तिथि 31 अक्तूबर 2021 है।
वर्तमान ई-प्रापण साइट का नई वेबसाइट में रूपांतरण करना प्रस्तावित है। सभी पंजीकृत/नये विक्रेताओं से नई वेबसाइट https://eproc.isro.in का अवलोकन करने तथा इसरो केंद्रों के साथ भाग लेने के लिए अपने प्रत्यय-पत्र का वैधीकरण करने का अनुरोध किया जाता है।
जून 22, 2016

पीएसएलवी-सी34

भारत का ध्रुवीय उपग्रह प्रमोयक राकेट  अपनी 36वीं उड़ान (पीएसएलवी-सी34) के द्वारा भू प्रेक्षण हेतु 727.5 कि.ग्रा. भारवाले कार्टोसैट-2 श्रंखला के  उपग्रह के साथ लगभग 560 कि.ग्रा. भार वाले 19 सहयात्री उपग्रहों को 505 कि.मी. की ध्रुवीय सूर्य तुल्यकाली कक्षा (एसएसओ) में स्थापित करेगा । पीएसएलवी- सी34 का सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र (एसडीएससी) शार, श्रीहरिकोटा के दूसरे लांच पैड (एसएलपी) से प्रक्षेपण किया जाएगा। यह पीएसएलवी की 'एक्सएल' संरूपण में (ठोस स्ट्रैपऑन मोटरों का उपयोग करने वाली) चोदहवीं उड़ान होगी ।

इन सहयात्री उपग्रहों में यूएसए, कैनडा, जर्मनी तथा इंडोनेशिया के उपग्रहों के साथ-साथ भारतीय विश्वविद्यालय/ शैक्षणिक संस्थानों के दो उपग्रह हैं । पीएसएलवी-34 पर ले जाए जाने वाले इन 20 उपग्रहों का कुल वजन लगभग 1288 किग्रा. है ।