National Emblem
ISRO Logo

अंतरिक्ष विभाग
भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन

लोक सूचना : सावधान : नौकरी पाने के इच्छुक उम्मीदवार

यू.आर.राव उपग्रह केंद्र (यू.आर.एस.सी), अं‍तरिक्ष विभाग, इसरो, बेंगलूरु में प्रतिनियुक्ति के आधार पर वेतन मैट्रिक्‍स (7वां केंद्रीय वेतन आयोग) के स्‍तर 14 में नियंत्रक के पद की भर्ती (आवेदन की अंतिम तिथि है: 15/11/2021)
चंद्रयान-2 विज्ञान आंकड़ा उपयोगीता के लिए अवसर की घोषणा। प्रस्ताव प्रस्तुत करने की अंतिम तिथि 31 अक्तूबर 2021 है।
वर्तमान ई-प्रापण साइट का नई वेबसाइट में रूपांतरण करना प्रस्तावित है। सभी पंजीकृत/नये विक्रेताओं से नई वेबसाइट https://eproc.isro.in का अवलोकन करने तथा इसरो केंद्रों के साथ भाग लेने के लिए अपने प्रत्यय-पत्र का वैधीकरण करने का अनुरोध किया जाता है।
अप्रैल 28, 2016

पी.एस.एल.वी.-सी33/आई.आर.एन.एस.एस.-1जी

 

ध्रुवीय उपग्रह प्रमोचक राकेट ने अपनी पैंतीसवी उड़ान (पी.एस.एल.वी.-सी33) में भारतीय नौवहन उपग्रह प्रणाली (आई.आर.एन.एस.एस.) के सातवें उपग्रह आई.आर.एन.एस.एस.-1जी का उप- भूतुल्‍यकाली अंतरण कक्षा (उप-जी.टो.ओ.) में प्रमोचन किया। यह प्रमोचन 28 अप्रैल, 2016 को सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र (एस.डी.एस.सी.), शार, श्रीहरिकोटा के प्रथम प्रमोचन पैड (एफ.एल.पी.) से किया गया। आई.आर.एन.एस.एस. उपग्रहों के पहले के छ: प्रमोचनों की तरह पी.एस.एल.वी.-सी33 ने पी.एस.एल.वी. के ‘एक्‍स.एल.’ वर्शन का प्रयोग किया जो कि छ: स्‍ट्रैप-ऑन से लैस है तथा 12 टन नोदक ले जा सकता है।

पी.एस.एल.वी. के ‘एक्‍स.एल.’ संरूपण का तेरहवीं बार प्रयोग किया गया है। छ: आई.आर.एन.एस.एस. उपग्रहों के प्रमोचन के अलावा, पी.एस.एल.वी.-एक्‍स.एल. ने भारत के मंगल कक्षित्र अंतरिक्षयान, बहुतरंगदैर्घ्‍य वेधशाला एस्‍ट्रोसैट, रेडार प्रतिबिंबिकी उपग्रह रीसैट-1 तथा संचार उपग्रह जीसैट-12 सहित कई अन्‍य अंतरिक्षयानों का प्रमोचन किया है। इसके अलावा, पी.एस.एल.वी.-एक्‍स.एल. ने एक ही वाणिज्यिक मिशन में, यूनाईटेड किंगडम के पांच उपग्रहों को सफलतापूर्वक कक्षा में स्‍थापित किया है।

यह पी.एस.एल.वी. का लगातार चौतीसवां सफल मिशन है, जिससे बार-बार इसकी विश्‍वसनीयता और सक्षमता सिद्ध होती है।