दिसम्बर 16, 2015

पी.एस.एल.वी.-सी29/टीलिमोस-1 मिशन

 

भारत का ध्रुवीय उपग्रह प्रमोचन राकेट अपनी बत्तीसवीं उड़ान (पी.एस.एल.वी.-सी29) में सिंगापुर के छ: उपग्रहों को 550 कि.मी. की वृत्तीय कक्षा में जो भूमध्‍यरेखा से 15 डिग्री की आनति पर है, में प्रमोचित करेगा। इन छ: उपग्रहों में से, टीलियोस-1 400 कि.ग्रा. भार वाला मुख्‍य उपग्रह है जबकि अन्‍य पाँच इसके सहगामी (को-पैसेंजर) उपग्रह हैं जिनमें दो सूक्ष्‍म उपग्रह तथा तीन नैनो उपग्रह हैं। पी.एस.एल.वी.-सी29 सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र, शार श्रीहरिकोटा के प्रथम प्रमोचन पैड से प्रमोचित किया जाएगा। ‘मात्र क्रोड’ संरूपण में यह पी.एस.एल.वी. की ग्‍यारहवीं उड़ान है (ठोस स्‍ट्रैप-ऑन मोटर के बिना)।

टीलियोस-1 के साथ, प्रमोचित किए जाने वाले पाँच सहगामी उपग्रह हैं: वेलॉक्‍स-सी.आई. (123 कि.ग्रा.) सूक्ष्‍म उपग्रह; वेलॉक्‍स-II (13 कि.ग्रा.) 6U-क्‍यूबसैट प्रौद्योगिकी प्रदर्शक; एथेनोसैट-1 प्रौद्योगिकी प्रदर्शक नैनो उपग्रह, केंट रिड्ज-1 (78 कि.ग्रा.); सूक्ष्‍म उपग्रह; तथा गैलेशिया (3.4 कि.ग्रा.) 2U-क्‍यूबसैट।

पी.एस.एल.वी.-सी.29 16 दिसंबर, 2015 को सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र शार, श्रीहरिकोटा से सिंगापुर के इन सभी छ: उपग्रहों को प्रमोचित करेगा।

एन्ट्रिक्‍स कॉपोरेशन लिमिटेड (ए.सी.एल.) ने एस.टी. इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स (सैटकॉम एवं संवेदक प्रणाली), सिंगापुर के साथ फरवरी 2014 के दौरान टीलियोस-1, एस.टी. इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स के भू प्रेक्षण उपग्रह और सिंगापुर विश्‍वविद्यालय के 5 सहगामी उपग्रहों) के प्रमोचन के लिए प्रमोचन सेवा करार तय किया है।