अप्रैल 20, 2011

पीएसएलवी-सी16

पीएसएलवी - सी16 इसरो के ध्रुवीय उपग्रह प्रमोचक राकेट पीएसएलवी की अठारहवाँ उडान है। इस उडान में, छः ठोस स्ट्रैप-ऑन मोटर सहित पीएसएलवी के मानक रुपांतर का उपयोग किया गया है।

पीएसएलवी - सी16, 1206 कि.ग्रा. भारवाले रिसोर्ससैट-2, 92 कि.ग्रा. भारवाले भारत-रूसी यूथसैट तथा 106 किग्रा भार वाले सिंगापुर के एक्स -सैट सहित, तीन उपग्रहों के कुल 1404 कि.ग्रा. भारवाले नीतभार को, 822 कि.मी की ध्रुवीय सूर्य तुल्यकाली कक्षा (एसएसओ) में स्थापित करेगा। पीएसएली-सी16 को सतीश धवन अन्तरिक्ष केन्द्र, शार, श्रीहरिकोटा के प्रथम प्रमोचन पैड (एफएलपी) से प्रमोचित किया जाएगा।

पीएसएलवी में उसके प्रथम प्रमोचन के बाद से किए गए मुख्य परिवर्तनों में, स्ट्रैप-ऑन मोटरों के ज्वलन क्रम में परिवर्तन, पहले चरण तथा स्ट्रैप-ऑन ठोस नोदन मोटर तथा द्वितीय एवं चौथे चरण के द्रव नोदन मोटर के नोदन भरण में वृद्धि, मोटर केस के इष्टतमीकरण और नोदन भरण में वृद्धि तथा एक कार्बन सम्मिश्र नीतभार अनुकूलित्र को लगाते हुए तृतीय चरण के कार्य निषादन में सुधार करना, आदि शामिल हैं ।

पीएसएलवी, ध्रुवीय एसएसओ, साथ ही निम्न भू कक्षाएँ (एलईओ) तथा भूतुल्यकाली अंतरण कक्षा (जीटीओ) में बहु उपग्रहों के प्रमोचन के लिए, एक अत्यधिक विश्वसनीय राकेट बन गया है। अपने सोलह सफल प्रमोचनों सहित, पीएसएलवी इसरो का एक वर्कहॉर्स प्रमोचक राकेट बन गया है तथा अन्तर्राष्ट्रीय ग्राहकों के लिए भी उपगहों के प्रमोचन हेतु इसका प्रस्ताव रखा गया है। 1994-2010 की अवधि के दौरान, पीएसएलवी ने कुल 44 उपग्रहों का प्रमोचन किया, जिनमें से 25 उपग्रह विदेश से तथा 19 भारतीय उपग्रह हैं।

पीएसएलवी-सी16 के चरणों की एक झलक
 
चरण-1
चरण-2
चरण-3
चरण-4
नामावली
क्रोड चरण (पीएस 1)  6 स्ट्रैप ऑन मोटर
पीएस2
पीएस3
पीएस4
नोदक
ठोस (एचटीपीबी आधारित)
द्रव (यूएच25+N204)
ठोस(एचटीपीबी आधारित)
द्रव (एमएमएच +एमओएन-3)
द्रव्यमान (टन)
138.0(क्रोड) + 6x9.0(स्ट्रैप-ऑन)
41.0
7.6
2.5
अधिकतम प्रणोद (के एन)
4703(क्रोड)+ 6x635(स्ट्रैप-ऑन)
804
244
7.3 x 2
ज्वलन समय(सेकेंड)
107(क्रोड)50 (स्ट्रैप-ऑन)
151
116
510
चरण व्यास (मी)
2.8(क्रोड)
1.0(स्ट्रैप-ऑन)
2.8
2.0
2.8
चरण लम्बाई(मीटर)

20(क्रोड)
11.3 (स्ट्रैप-ऑन)

12.8
3.6
2.6