अप्रैल 18, 2001

जीएसएलवी - डी1

 

भू-तुल्‍यकाली उपग्रह प्रमोचक रॉकेट (जीएसएलवी) को उपग्रहों के भू-तुल्‍यकाली अंतरण कक्षा (जीटीओ) में स्‍थापित करने के लिए अभिकल्पित किया गया है। यह इसरो के ध्रुवीय उपग्रह प्रमोचन रॉकेट (पीएसएलवी) के उड़ान-प्रमाणित ठोस एवं द्रव नोदक चरण तथा निम्‍नतापीय ऊपरी चरण को अपनाता है। प्रथम विकास उड़ान, जीएसएलवी-डी1, प्रायोगिक संचार उपग्रह जीसैट-1 वहन करता है। .

जीएसएलवी एक 49 मी. ऊँचा तीन चरणों वाला यान है। प्रथम चरण, जीएस1 में एक ठोस नोदक मोटर (एस125) और चार द्रव नोदक स्‍ट्रैप-ऑन चरण (एल40) समाविष्ट हैं। द्वितीय चरण (जीएस2) को एक एकल द्रव नोदक इंजन (एल37.5) द्वारा ऊर्जा मिलती है। तृतीय चरण (जीएस3) पुनर्प्रारंभ करने योग्य इंजनों सहित एक निम्‍नतापीय चरण (सी12) है।

प्राचल जीएस 1 चरण (प्रथम चरण) जीएस2 चरण (द्वितीय चरण) जीएस3 चरण (तृतीय चरण)
एस125 बूस्टर एल40 स्ट्रैप-ऑन
लंबाई (मी.) 20.3 19.7 11.6 8.7
व्यास (मी.) 2.8 2.1 2.8 2.8
कुल भार (ट) 156 46 42.8 15
नोदक भार (ट) 129 40 38 12.5
आवरण/टंकी सामग्री एम250 स्टील एल्यूमिनियम मिश्रधातु एल्यूमिनियम मिश्रधातु एल्यूमिनियम मिश्रधातु
नोदक एचटीपीबी यूडीएमएच व एन2ओ4 यूडीएमएच व एन2ओ4 एलएच2 व एलओएक्स
ज्वलन समय (से) 100 160 150 720
अधिकतम निर्वात थ्रस्ट (केएन) 4700 680 720 73.5
विशिष्ट आवेग (एनएस/कि.ग्रा) 2610 2750 2890 4510
नियंत्रण प्रणाली मल्टी-पोर्ट एसआईटीवीसी ईजीसी एकल समतल गिम्बलीकरण अक्षनमन और पार्श्ववर्तन नियंत्रण के लिए ईजीसी दो समतल गिम्बलीकरण। लोट नियंत्रण के लिए तप्त गैस आरसीएस थ्रस्ट चरण नियंत्रण के लिए 2 संचालन इंजन और कोस्ट चरण नियंत्रण के लिए शीत गैस आरसीएस