National Emblem
ISRO Logo

अंतरिक्ष विभाग
भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन

लोक सूचना : सावधान : नौकरी पाने के इच्छुक उम्मीदवार

यू.आर.राव उपग्रह केंद्र (यू.आर.एस.सी), अं‍तरिक्ष विभाग, इसरो, बेंगलूरु में प्रतिनियुक्ति के आधार पर वेतन मैट्रिक्‍स (7वां केंद्रीय वेतन आयोग) के स्‍तर 14 में नियंत्रक के पद की भर्ती (आवेदन की अंतिम तिथि है: 15/11/2021)
चंद्रयान-2 विज्ञान आंकड़ा उपयोगीता के लिए अवसर की घोषणा। प्रस्ताव प्रस्तुत करने की अंतिम तिथि 31 अक्तूबर 2021 है।
वर्तमान ई-प्रापण साइट का नई वेबसाइट में रूपांतरण करना प्रस्तावित है। सभी पंजीकृत/नये विक्रेताओं से नई वेबसाइट https://eproc.isro.in का अवलोकन करने तथा इसरो केंद्रों के साथ भाग लेने के लिए अपने प्रत्यय-पत्र का वैधीकरण करने का अनुरोध किया जाता है।
दिसम्बर 19, 2018

जी.एस.एल.वी.-एफ11/जीसैट-7ए मिशन

GSLV-F11

जी.एस.एल.वी.-एफ11 ने इसरो के 39वे संचार उपग्रह जीसैट-7ए को19 दिसंबर, 2019 को 1610 बजे (भा.मा.स.) सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र शार श्रीहरिकोटा के द्वितीय प्रमोचन पैड (एस.एल.पी.) से सफलतापूर्वक प्रमोचित किया । 

जी.एस.एल.वी.-एफ11 भारत के भूतुल्‍यकाली उपग्रह प्रमोचक राकेट (जी.एस.एल.वी.) की 13वीं उड़ान है और स्‍वदेशी क्रायोजेनिक ऊपरी चरण (सी.यू.एस.) के साथ उसकी 7वीं उड़ान ।

जी.एस.एल.वी.-एफ11 इसरो की त्रि-चरणी चतुर्थ पीढ़ी का प्रमोचक राकेट है। चार द्रव स्‍ट्रैप-ऑन तथा एक ठोस राकेट मोटर इसका प्रथम चरण है। राकेट का द्वितीय चरण द्रव ईंधन का उपयोग करने वाले उच्‍च प्रणोद इंजन से युक्‍त है। क्रायोजेनिक ऊपरी चरण इस राकेट का तीसरा और अंतिम चरण है।GSAT-7A

2250 कि.ग्रा. के उत्‍थापन भार वाला जीसैट-7ए, एक भू-स्थिर उपग्रह है, जो के.यू.-बैंड में संचार प्रेषानुकरों का वहन करता है।  इस उपग्रह को भारतीय भू-भाग के प्रयोक्‍ताओं को संचार क्षमता प्रदान करने के लिए बनाया गया है।