दिसम्बर 05, 2018

जीसैट-11 मिशन

भारत की अगली पीढ़ी के उच्‍च क्षमता वाले संचार उपग्रह, जीसैट-11 का एरियन-5 द्वारा कौरु प्रमोचन बेस, फ्रेंच गियाना से 05 दिसंबर, 2018 को सफलतापूर्वक प्रमोचन किया गया। लगभग 5854 कि.ग्रा. भार वाला जीसैट-11 इसरो द्वारा निर्मित सबसे भारी उपग्रह है।

भारतीय भूभाग तथा द्वीपों पर बहु-स्‍पॉट किरण ऐंटेना कवरेज सहित उन्‍नत संचार उपग्रहों की श्रृंखला में जीसैट-11 सबसे अग्रणी उपग्रह है। जीसैट-11 देश भर में ब्रॉडबैंड सेवाएं प्रदान करने में मुख्‍य भूमिका निभाएगा। यह नई पीढ़ी के अनुप्रयोगों को प्रदर्शित करने हेतु मंच भी प्रदान करेगा।

जीसैट-11 को भूतुल्‍यकाली अंतरण कक्षा में प्रमोचित किया गया तथा बाद में हासन स्थित इसरो की मुख्‍य नियंत्रण सुविधा ने उपग्रह को वृत्‍ताकार भूस्थिर कक्षा में स्‍थापित करने के लिए इसके द्रव अपभू मोटर का प्रयोग करते हुए आरंभिक कक्षा उत्‍थापन युक्तिचालन के निष्‍पादन के लिए जीसैट-11 का नियंत्रण अपने हाथों में ले लिया।

प्रमोचन भार / Launch Mass: 
5854 kg
मिशन कालावधि / Mission Life : 
15 Years
शक्ति / Power: 
13.6 kW
Ariane-5 VA-246
उपग्रह का प्रकार / Type of Satellite: 
Communication
निर्माता / Manufacturer: 
ISRO
स्‍वामी / Owner: 
ISRO
अनुप्रयोग / Application: 
Communication
कक्षा का प्रकार / Orbit Type: 
GTO