प्रस्ताव तैयार करने के लिए दिशानिर्देश

संभावित पीआई को प्रस्ताव निम्न वर्गों में वर्णित प्रारूप में प्रस्तुत करना चाहिए। कवर पेज के लिए प्रारूप अनुबंध-4 में दिया गया है । विस्तृत प्रस्ताव के लिए प्रारूप अनुबंध-5 में दिया गया है । प्रस्ताव के प्रारूप में घोषणा जिसपर प्रधान अन्वेषक और संस्था के प्रमुख द्वारा हस्ताक्षर किया जाना भी शामिल है।

प्रस्ताव प्रस्तुत करने के अनुदेश

प्रस्तावों को मानक ए4 आकार के लंबाई के कागज पर लगभग 10 पृष्ठों तक सीमित और डबल स्पेस में टाइप और निर्धारित प्रारूप में ही किया जाना चाहिए । अनुबंध- 4 और  अनुबंध- 5 में दिए गए प्रारूप में तैयार किए प्रस्ताव की दो प्रतियों को निम्न पते पर भेज दिया जाना चाहिए:

डॉ आर राजशेखर फणी
समन्वयक, चंद्रयान 1टाएमसी, HySI डेटा उपयोग एओ,
 ग्रह विज्ञान डिवीजन, BPSG / EPSA
अंतरिक्ष अनुप्रयोग केंद्र
भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन
जोधपुर-टेकरा
 अंबावाडी विस्तार पी ओ
अहमदाबाद - 380 015, भारत
टेलीफोन +91-79-2691 4359;
फैक्स +91-79-2691 5823;
ई-मेल: rajasekhar@sac.isro.gov.in

प्रस्ताव का विवरण

प्रस्ताव के मुख्य भाग में सारांश (उद्देश्य का सार, कार्यप्रणाली, परियोजना की समय से सुपुर्दगी और निर्धारित समय) को शामिल करना चाहिए, आगे, उद्देश्य का विस्तृत वर्णन और वैज्ञानिक तर्क होने चाहिए । डेटा की आवश्यकता और विश्लेषण के तरीकों पर प्रकाश डाला जाना चाहिए। कार्यप्रणाली या दृष्टिकोण, अपनाई जाने वाली इस परियोजना के अपेक्षित परिणाम प्रस्तुत किया जाना चाहिए। परियोजना के विभिन्न चरणों के लिए निर्धारित अनुसूची उसे पूरा होने की तारीख सहित दिया जाना चाहिए।

परियोजना अवधि

यह वांछित है कि परियोजना को 3 साल के भीतर पूरा किया जाएगा । जब भी विज्ञान योजना कार्यशाला आयोजन की घोषणा की जाती है पीआई को परिणाम पेश करना वांछनीय है । पीआई को राष्ट्रीय/अंतरराष्ट्रीय उत्कृष्ठ समीक्षा पत्रिकाओं में इन अध्ययनों से परिणाम प्रकाशित करने और राष्ट्रीय/अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलनों/ संगोष्ठियों में उनके परिणाम पेश करना भी वांछनीय है।

डेटा आवश्यकताएं

धारा 6.2 में वर्णित के अनुसार प्रस्तावित अध्ययन में प्रस्ताव के समर्थन के लिए और अधिक संख्या में टीएमसी और HySI डेटा सेट का उपयोग करना चाहिए। परियोजना प्रस्ताव में स्पष्ट रूप से चंद्रमा के अध्ययन क्षेत्र की भौगोलिक सीमा और उसके लिए आवश्यक डेटा सेट, टीएमसी के कवरेज के विवरण का उल्लेख होना चाहिए,  भूमध्यरेखीय और ध्रुवीय क्षेत्रों पर HySI डेटा सेट को चित्र-1 और चित्र- 2 में दिखाया गया है । चंद्रयान -1 द्वारा अधिग्रहीत टीएमसी और HySI डेटा सेट की अधिक जानकारी http://www.issdc.gov.in के ISSDC की वेबसाइट से प्राप्त की जा सकती है। इन डेटा सेट को ISSDC, बैंगलोर से डाउनलोड भी किया जा सकता है।

टीएमसी डेटा का क) निकटस्थ ख) दूरस्थ ग) उत्तर और घ) चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव के क्षेत्रों पर कवरेज। टीएमसी डेटा की रूपरेखा को बॉक्स में हरे रंग द्वारा दिखाया गया है।

HySI डेटा का क) निकटस्थ ख) दूरस्थ ग) उत्तर और घ) चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव के क्षेत्रों पर कवरेज। टीएमसी डेटा की रूपरेखा को बॉक्स में भुरे रंग द्वारा दिखाया गया है।

कार्मिक

परियोजना में कई व्यक्तियों और संस्था के संयुक्त प्रयास(सो) को शामिल कर सकते हैं। बहरहाल, सिर्फ एक पीआई को मान्यता प्राप्त होगी । अन्य प्रतिभागियों को "सह अन्वेषक" के रूप में नामित किया जा सकता है। पीआई/सह-अन्वेषक शैक्षिक योग्यता का उल्लेख करते हुए बायोडेटा, संबंधित क्षेत्रों में किया गया काम और हाल के प्रकाशनों की सूची प्रदान करेगा। परियोजना को समय पर पूरा करने की जिम्मेदारी पीआई की होगी। संस्था (ओं) के प्रधान से पीआई और सह अन्वेषक के लिए आवश्यक प्रशासनिक और वित्तीय खर्च समर्थन का आश्वासन बहुत जरूरी है।

सुविधाएं और उपकरण

संस्था या उसके उपसंस्थानो में इस परियोजना के लिए प्रदत्त उपलब्ध कंप्यूटर की सुविधा, प्रतिबिंब विश्लेषण सॉफ्टवेयर संकुल और अन्य उपकरणों का वर्णन करें।

परियोजना का मूल्यांकन

यह प्रस्ताव है कि एओ परियोजनाओं की प्रगति की समीक्षा करने और चंद्र वैज्ञानिक समुदाय के साथ परिणाम को साझा करने के प्रयोजन के लिए हर साल अंत में कार्यशाला आयोजित किया जाएगा। प्रत्येक परियोजना के पीआई से यह उम्मीद की जाती है वे संबंधित परियोजना की इन कार्यशालाओं भाग लें और प्रगति के बारे में संक्षिप्त में जानकारी दें।