प्रशिक्षण तथा विकास संचार चैनल (टीडीसीसी)

प्रशिक्षण तथा विकास संचार चैनल (टीडीसीसी) 1995 से कार्यरत है। शिक्षण में आपसी सवाल-जवाब के लिए इसमें एक दृश्‍य तथा दो श्रव्‍य चैनल उपलब्‍ध हैं। शिक्षण छोर पर सीधे या रिकार्ड किए गए व्‍याख्‍यानों को प्रसारित करने के लिए एक स्‍टूडियो तथा एक अपलिंक सुविधा की अवअयक्ता होती है।

देश भर में अलग-अलग जगहों पर कक्षा में मौजूद प्रतिभागी प्रत्‍यक्ष ग्राही तंत्र (डीआरएस) द्वारा व्‍याख्‍यान को देख व सुन सकते हैं और टेलीफोन लाइनों द्वारा व्‍याख्‍याताओं से विचारों का आदान प्रदान कर सकते हैं। कई राज्‍य सरकारों द्वारा दूरशिक्षण, ग्रामीण विकास, महिला व बाल विकास, पंचायती राज, स्‍वास्‍थ्‍य, कृषि, वानिकी आदि क्षेत्रों में टीडीसीसी का व्‍यापक प्रयोग किया जा रहा हैं। इस समय  गुजरात, मध्‍यप्रदेश, ओडिशा, कर्नाटक तथा गोवा में शिक्षण छोर उपलब्‍ध हैं। डीआरएस नेटवर्क पर देश भर में 500 से अधिक कक्षाएं चल रही हैं।

टीडीसीसी से प्राप्त अनुभवों से दूरशिक्षण कार्यक्रम के अंतर्गत एडसैट नेटवर्क के डिजाइन में सहायता मिली है।