National Emblem
ISRO Logo

अंतरिक्ष विभाग
भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन

लोक सूचना : सावधान : नौकरी पाने के इच्छुक उम्मीदवार

वर्तमान ई-प्रापण साइट का नई वेबसाइट में रूपांतरण करना प्रस्तावित है। सभी पंजीकृत/नये विक्रेताओं से नई वेबसाइट https://eproc.isro.gov.in का अवलोकन करने तथा इसरो केंद्रों के साथ भाग लेने के लिए अपने प्रत्यय-पत्र का वैधीकरण करने का अनुरोध किया जाता है।
राष्ट्रीय अंतरिक्ष परिवहन नीति – 2020 का मसौदा

प्रशासन और विकास में अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी आधारित उपकरण और अनुप्रयोगों को बढ़ावा देना - उत्तर प्रदेश

लखनऊ में 30 जनवरी 2018 को उत्तर प्रदेश (आरएसएसी-यूपी) के सुदूर संवेदन उपयोग केंद्र द्वारा "उत्तर प्रदेश में प्रशासन और विकास में अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी आधारित उपकरण और अनुप्रयोगों को बढ़ावा देना" विषय पर राज्य सम्मेलन का आयोजन किया गया। यह राज्य सम्मेलन सितंबर 2015 के दौरान नई दिल्ली में अंतरिक्ष विभाग, भारत सरकार द्वारा आयोजित राष्ट्रीय सम्मेलन की अगली कड़ी है जिसमें माननीय प्रधान मंत्री ने अपने संबोधन में सामाजिक लाभ के लिए अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी के अधिक प्रभावी उपयोग को बढ़ावा देने के लिए राज्य स्तर पर विभिन्न हितधारकों के साथ इस तरह के सम्मेलनों की आवश्यकता पर जोर दिया था ।

राज्य सम्मेलन का उद्घाटन, श्रीमती मोहसिन रजा, राज्य मंत्री, विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग, उत्तर प्रदेश सरकार ने किया था। अपने उद्घाटन भाषण में, उन्होंने राज्य में शासन और विकास गतिविधियों को बढ़ाने में इस तरह के सम्मेलन के महत्व पर प्रकाश डाला और आग्रह किया कि सम्मेलन के तुरंत बाद प्रत्येक विभाग  उन्नति के लिए सिफारिशों को लागू करने के लिए कार्य योजना बनाए।

डॉ. के शिवन, अध्यक्ष इसरो और सचिव, अंतरिक्ष विभाग, भारत सरकार ने इसरो मुख्यालय, बेंगलुरु से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से प्रतिभागियों को संबोधित किया। डॉ. शिवन ने कहा कि वर्तमान में प्राकृतिक संसाधन प्रबंधन, विकास और अवसंरचना योजना, स्वास्थ्य, शिक्षा, आपदा प्रबंधन और कई अन्य संबंधित गतिविधियों के लिए अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी का उपयोग किया जा रहा है। उन्होंने आश्वासन दिया कि राज्य सम्मेलन की सिफारिशों को लागू करने के लिए इसरो सभी आवश्यक समर्थन प्रदान करेगा।

श्री अखिलेश मिश्रा, विशेष सचिव, आईटी, उत्तर प्रदेश सरकार; डॉ. पी.जी. दिवाकर, वैज्ञानिक सचिव, इसरो; डॉ. ए. सेंथिल कुमार, निदेशक, भारतीय सुदूर संवेदन संस्थान (आईआईआरएस); और आरएसएसी-यूपी के निदेशक श्री राजीव मोहन ने भी प्रतिभागियों को संबोधित किया। आरएसएसी-यूपी के वैज्ञानिकों और लाइन विभाग के अधिकारियों के बीच परस्पर चर्चा के आधार पर आरएसएसी-यूपी द्वारा तैयार 'उपयोगकर्ता आवश्यकता दस्तावेज' का उद्घाटन सत्र के दौरान विमोचन किया गया।

उत्तर प्रदेश सरकार के 29 लाइन विभागों के सचिवों, विशेष सचिवों, विभाग के प्रमुख और अन्य वरिष्ठ अधिकारियों सहित, इसरो और आरएसएसी-यूपी के 100 से अधिक अधिकारियों ने सम्मेलन में भाग लिया ।

तकनीकी सत्र चार विषयों पर आयोजित किए गए थे, अर्थात् "प्राकृतिक संसाधन प्रबंधन", "विकास योजना", "बुनियादी ढांचा योजना" और "स्वास्थ्य, शिक्षा और कल्याण"।

समापन सत्र में, निदेशक, आरएसएसी-यूपी ने प्रत्येक लाइन विभाग की आवश्यकताओं का सार प्रस्तुत किया, विशेष रूप से नई आवश्यकताओं पर प्रकाश डाला। इस राज्य सम्मेलन से 80 से अधिक पहल उभर कर आए हैं।

यह उत्तर प्रदेश सम्मेलन 16वां ऐसा राज्य सम्मेलन था । इसके साथ, 16 राज्यों (हरियाणा, बिहार, उत्तराखंड, मिजोरम, नागालैंड, राजस्थान, पंजाब, झारखंड, मेघालय, हिमाचल प्रदेश, केरल, छत्तीसगढ़, असम, मध्य प्रदेश, तमिलनाडु और उत्तर प्रदेश) ने राज्य सम्मेलन का आयोजन किया है जिसमें राज्य के मुख्य मंत्रियों और  वरिष्ठ अधिकारियों जैसे वरिष्ठ गणमान्य व्यक्तियों ने भाग लिया है। शेष राज्यों ने इस तरह के आयोजन करने और प्रशासन और विकास में अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी का लाभ उठाने की कार्ययोजना बनाई है।

 

वीडियो सम्मेलन के माध्यम से सभा को संबोधित करते हुए अध्यक्ष, इसरो ।

वीडियो सम्मेलन के माध्यम से सभा को संबोधित करते हुए अध्यक्ष, इसरो ।

 

उद्घाटन सत्र में 'यू.पी. लाइन विभागों की उपयोगकर्ता आवश्यकता' पर दस्तावेज़ का विमोचन।

उद्घाटन सत्र में 'यू.पी. लाइन विभागों की उपयोगकर्ता आवश्यकता' पर दस्तावेज़ का विमोचन।