ग्राम संसाधन केन्‍द्र

गॉंवों को सीधे उपग्रह आधारित सेवाएं पहुँचाने के लिए अंतरिक्ष विभाग/इसरो ने गैरसरकारी संगठनों/ट्रस्‍टों व राज्‍य/केन्‍द्रीय एजेंसियों के सहयोग से ग्राम संसाधन केन्‍द्र (वीआरसी) कार्यक्रम प्रारंभ किया है।

इस समय 22 राज्‍यों/केन्‍द्र शासित प्रदेशों नामत:, ऑंध्र प्रदेश, असम, बिहार, दिल्‍ली, गुजरात, हिमाचल प्रदेश, झारखंड, कर्नाटक, केरल, मध्‍य प्रदेश, महाराष्‍ट्र, मेघालय, नागालैंड, ओडिशा, पुडुचेरी, राजस्‍थान, सिक्किम, तमिलनाडु, उत्‍तराखंड, उत्‍तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल तथा अंडमान व निकोबार द्वीप समूह में 461 ग्राम संसाधन केन्‍द्र स्‍थापित किए गए हैं । इन 461 ग्राम संसाधन केन्द्रों में 81 विशेषज्ञ केन्‍द्र भी शामिल हैं। 

इन ग्राम संसाधन केन्‍द्रों ने जीविकोपार्जन में सहायता के लिए कृषि/बागवानी विकास; मत्‍स्‍य उद्योग विकास; पशुपालन विकास; जल संसाधन; दूर स्‍वास्‍थ्‍यरक्षा; जागरुकता कार्यक्रम; महिला सशक्तिकरण; अनुपूरक शिक्षा; कंप्‍यूटर साक्षरता; लघु ऋण; लघु वित्‍त व्‍यवस्‍था; शिल्‍प विकास/व्‍यावसायिक प्रशिक्षण आदि संबंधित 6500 कार्यक्रम आयोजित किए हैं।  अब तक पांच लाख से अधिक लोग ग्राम संसाधन केन्‍द्र सेवा से लाभान्वित हो चुके हैं।

भावी ग्राम संसाधन केन्‍द्रों में संचार प्रौद्योगिकी क्षेत्र में हो रही प्रगति को शामिल करने की संभवनाओं का अध्‍ययन किया जा रहा है। इस अध्‍ययन के नतीजों, केन्‍द्रों के प्रयोग तथा गैरसरकारी संगठनों व राज्‍य सरकारों की दिलचस्‍पी के आधार पर ग्राम संसाधन केन्‍द्रों के विस्‍तार पर विचार किया जाएगा।