इसरो ने स्मार्ट इंडिया हैकथॉन -2017 ग्रैंड फ़िनाले का आयोजन किया

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो), अंतरिक्ष विज्ञान विभाग (अं.वि.) ने अहमदाबाद नोडल सेंटर के लिए अप्रैल 1-02, 2017 के दौरान गुजरात यूनिवर्सिटी कन्वेंशन हॉल, अहमदाबाद, गुजरात में स्मार्ट इंडिया हैकथॉन-2017 (एसआईएच -2017) ग्रांड फ़िनाले का आयोजन किया। यह ग्रांड फ़िनाले के दौरान पूरे भारत में 29 अलग-अलग नोडल केंद्रों (26 स्थानों) पर एक साथ 36 घंटे अ-बाध डिजिटल प्रोग्रामिंग प्रतिस्पर्धा आयोजित की गई थी।

इस स्मार्ट इंडिया हैकथॉन -2017 के लिए इसरो / अं.वि. ने "सूचना और साइबर सुरक्षा" को विषय के रूप में चुना है । इसरो/अं.वि. के भीतर विभिन्न अंतरिक्ष मिशन सहायता कार्यों में साइबर प्रौद्योगिकियों के उपयोग में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है, जिससे इसरो की आईटी और अंतरिक्ष संपत्ति की सुरक्षा के अलावा अंतरिक्ष मिशन से संबंधित अत्यधिक गोपनीय और संवेदनशील डेटा के प्रयोग में नई चुनौतियां सामने आई हैं । इस प्रकार, साइबर हमलों के खिलाफ निवारक उपायों के साथ-साथ सक्रिय सुरक्षा मानीटरण क्षमता बढ़ाने के लिए डेटा सुरक्षा उपायों को लागू करना इसरो के लिए महत्वपूर्ण है। इस उद्देश्य के साथ, इस एसआईएच -2017 के लिए सूचना और साइबर सुरक्षा को फोकस के रूप में रखकर, जो नए तरीकों से विशिष्ट मुद्दों को हल करने के लिए भारत के युवा और चैतन्य दिमाग से नव विचारों को प्राप्त करने के लिए चुना गया था।

इसरो/अंवि. द्वारा 53 समस्याओं को श्रेणियों में रखा गया था जोकि नेटवर्क और ईमेल सुरक्षा, डेटा गोपनीयता और रिसाव की रोकथाम, अग्रांत मदों/परिधि सुरक्षा के विरुद्ध साइबर-हमलें, एक्सेस कंट्रोल और अन्य अनुप्रयोगों आदि। प्राप्त हुए 263 विचार प्रस्तुतियाँ में से, 50 विचारों को सूचीबद्ध किया गया था । विभिन्न छात्र प्रतिभागियों को प्रशिक्षित करने के लिए, 8 मार्च, 2017 को इसरो द्वारा ऑनलाइन प्रशिक्षण सत्र भी आयोजित किया गया था। इसरो/अं.वि.द्वारा संबोधित 53 समस्याओं में से 21 के नविन डिजिटल समाधान के लिए 1 अप्रैल, 2017 को अहमदाबाद में 'ग्रांड फिनाले' के दौरान 392 युवाओं के 49 टीमों (6 छात्र और 2 मेंटरों युक्त प्रति टीम) ने अबाध 36 घंटों तक कार्य किया।

माननीय प्रधान मंत्री श्री नरेन्द्रभाई मोदी ने 1 अप्रैल, 2017 की रात (22: 00-23: 00 बजे) को भारत भर के सभी प्रतिभागियों को संबोधित किया, और साथ ही अहमदाबाद नोडल सेंटर के छात्र सहभागियों के साथ-साथ इलाहाबाद, कोयम्बटूर, कोलकाता और पुणे केंद्रों के साथ भी लाइव वीडियो सम्मेलन के माध्यम से बातचीत की। अध्यक्ष इसरो/ सचिव अं.वि., और अध्यक्ष, एआईसीटीई, इस कार्यक्रम में भाग लेने के लिए 01 अप्रैल, 2017 की शाम को और साथ ही रात में भी छात्र प्रतिभागियों को प्रोत्साहित करने के लिए उपस्थित थे।

गुजरात के माननीय शिक्षा मंत्री, निदेशक, सैक, गुजरात टेक्नोलोजिकल यूनिवर्सिटी(जीटीयू) और गुजरात यूनिवर्सिटी के कुलपति 1 अप्रैल, 2017 को आयोजित एसआईएच -2017 के उद्घाटन समारोह में मुख्य अतिथि थे। समापन समारोह और पुरस्कार वितरण अप्रैल 02, 2017 को आयोजित किया गया। विद्यार्थी प्रतिभागियों ने इसरो के अध्यक्ष के साथ सीधे और सार्थक बातचीत की और इसरो के वर्तमान और भविष्य के अंतरिक्ष कार्यक्रमों से संबंधित कई प्रश्न पूछें।

पांच प्रयोजित पुरस्कारों में से इसरो ट्राफियां विजेता पुरस्कार(राजलक्ष्मी इंजीनियरिंग कॉलेज, कांचीपुर, चेन्नई, तमिलनाडु), प्रथम रनर-अप (त्यागराज कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग, मदुरै, तमिलनाडु) और सेकंड रनर-अप (निट्टे मीनाक्षी इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, बेंगलुरु , कर्नाटक) ने प्राप्त कीं। सभी प्रतिभागी टीमों को प्रमाण पत्र और प्रतिकचिह्न दिया गया।

इसरो / अं.वि. की इस पहल में मानव संसाधन विकास मंत्रालय के तत्वावधान में अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) 'प्रीमियर पार्टनर' थे।


एक नज़र में एसआईएच-2017 इवेंट पार्टिसिपेशन:


नोडल केंद्र

संबोधित समस्या प्रस्ताव

प्राप्त विचार

ग्रैंड फिनले के लिए प्रतिभागी टीमों की संख्या (सूचिबद्ध)

प्रतिभागी छात्रों की संख्या

अहमदाबाद, गुजरात

53

263

21 समस्याओं पर कार्यरत 49 (50) टीमें

392

26 स्थानों के 29 केंद्र

598

7531

1266

10000+

 
 

गुजरात यूनिवर्सिटी कन्वेंशन हॉल, अहमदाबाद में 36 घंटे तक चला हैकथॉन

गुजरात यूनिवर्सिटी कन्वेंशन हॉल, अहमदाबाद में 36 घंटे तक चला हैकथॉन

 

अप्रैल 02, 2017 को आयोजित समापन समारोह और पुरस्कार वितरण

अप्रैल 02, 2017 को आयोजित समापन समारोह और पुरस्कार वितरण