National Emblem
ISRO Logo

अंतरिक्ष विभाग
भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन

लोक सूचना : सावधान : नौकरी पाने के इच्छुक उम्मीदवार

वर्तमान ई-प्रापण साइट का नई वेबसाइट में रूपांतरण करना प्रस्तावित है। सभी पंजीकृत/नये विक्रेताओं से नई वेबसाइट https://eproc.isro.gov.in का अवलोकन करने तथा इसरो केंद्रों के साथ भाग लेने के लिए अपने प्रत्यय-पत्र का वैधीकरण करने का अनुरोध किया जाता है।
राष्ट्रीय अंतरिक्ष परिवहन नीति – 2020 का मसौदा

अंतरिक्ष उपयोग केंद्र (सैक)

 

 

अंतरिक्ष उपयोग केंद्र

जोधपुर टेकरा, अंबावाडी  विस्तार पी.ओ.

अहमदाबाद - 380015

निदेशक:श्री  डी. के. दास

ईमेल: [email protected]




Visit Us

अंतरिक्ष उपयोग केंद्र (सैक) भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के प्रमुख केंद्रों में से एक है। नीतभार (पेलोड) के अभिकल्पन व विकास, सामाजिक अनुप्रयोग, क्षमता निर्माण व अंतरिक्ष विज्ञान से जुड़े विविध विषयों पर काम करने वाला यह एक ऐसा अनूठा केंद्र है जहॉं प्रौद्योगिकी, विज्ञान और अनुप्रयोग में युक्तिप्रभावी तालमेल स्थापित किया जाता है। यह केंद्र संचार, दिशानिर्देशन (नेविगेशन), पृथ्वी व ग्रहों के अवलोकन, मौसमविज्ञान नीतभारों व तत्संबंधित आंकड़ा संसाधन व भू-संरचनाओं के विकास और उन्हें समर्थ उत्पाद के रूप में वास्तविकता के धरातल पर उतारने के लिए उत्तरदायी है। यहां पर मौसम व पर्यावरण के अध्ययन, आपदा मानीटरन/प्रशमन आदि के क्षेत्र में कई राष्ट्रीय स्तर के अनुप्रयोग कार्यक्रमों  को भी संचालित किया जाता है। यह केन्द्र सामाजिक लाभ के कई अनुप्रयोगों के लिए अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी के दोहन में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। समयानुकूल आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए इस केन्द्र की संगठनात्मक संरचना सदैव तत्पर है। सैक द्वारा अहमदाबाद व दिल्ली के भू-केंद्रों का परिचालन व रखरखाव भी किया जाता है। 

संयुक्त राष्ट्र (यूएन) से संबद्ध सेन्टर फॉर स्पेस साइंस एंड टेक्नॉलॉजी एजूकेशन इन एशिया एंड द पैसेफिक (सीएसएसटीईएपी) में अंतरिक्ष विज्ञान और प्रौद्योगिकी शिक्षा केंद्र के तहत उपग्रह संचार, उपग्रह मौसम विज्ञान और वैश्विक परिवर्तन से संबंधित प्रशिक्षण कार्यक्रमों के लिए सैक  मेजबान संस्था है।