आई.टी.आई. हेतु अंतरिक्ष आधारित दूर शिक्षा

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो), अंतरिक्ष विभाग (अं.वि.), भारत सरकार जिसका प्रतिनिधित्‍व विकास एवं शैक्षिक संचार यूनिट (डेकू), अहमदाबाद ने किया, ने 15 जुलाई, 2016 को अंतरिक्ष आधारित दूर शिक्षा कार्यक्रम की स्‍थापना करने हेतु कौशल विकास एवं उद्यमिता (एम.एस.डी.ई.) मंत्रालय, भारत सरकार, नई दिल्‍ली, जिसका प्रतिनिधित्‍व राष्‍ट्रीय शिक्षण मीडिया संस्‍थान (एन.आई.एम.आई.), चेन्‍नई ने किया, के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्‍ताक्षर किए।

एम.एस.डी.ई. का कुशल कार्यबल की आपूर्ति एवं मांग के बीच मौजूद बड़ी दूरी के रूप में उपयुक्‍त कौशल सेटों के साथ बड़े कार्यबल के सृजन हेतु देश में कौशल विकास की वृद्धि करने का महत्‍वाकांक्षी लक्ष्‍य है। देश में व्‍यवसायिक प्रशिक्षण सुविधाओं से गत कुछ वर्षों में प्रमाणिकता में वृद्धि हुई है। देश में सबसे बड़े व्‍यवसायिक प्रशिक्षण अवसंरचना का गठन करते हुए, लगभग 2,200 सरकारी एवं 10,800 निजी औद्योगिक प्रशिक्षण संसथान (आई.टी.आई.) हैं।

एम.एस.डी.ई. की देश के सभी आई.टी.आई. में दूर शिक्षा का विस्‍तार करने की योजना है, जिसमें विभिन्‍न क्षेत्रों के पाठ्यक्रमों में अध्‍ययनरत लगभग 18 लाख (1.8 मिलियन) छात्रों को लाभान्वित करने की क्षमता है। एम.एस.डी.ई. का मानना है कि अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी महत्‍वपूर्ण साधन है जिसको प्रशिक्षण एवं आउटरीच गतिविधियों को प्रोत्‍साहित एवं मजबूत बनाने हेतु प्रभावी रूप से प्रयोग करना चाहिए और जोकि बहुत ही कम समय में इस बड़ी जनसंख्‍या तक पहुंचने हेतु अंतरिक्ष आधारित संचार को अनुकूल बनाने में प्रयासरत है। तदनुसार, अंतरिक्ष आधारित दूर शिक्षा कार्यक्रम (एस.डी.एल.पी.) की स्‍थापना करने हेतु एम.एस.डी.ई. के सचिव एवं संयुक्‍त सचिवों की उपस्थिति में इसरो और एम.एस.डी.ई. के बीच एक समझौता ज्ञापन पर हस्‍ताक्षर किए गए, जिसमें देश भर में फैली हजारों आई.टी.आई. में अन्‍योन्‍यक्रिया एवं गैर-अन्‍योन्‍यक्रिया टर्मिनलों के विकास शामिल हैं।

इस समझौता ज्ञापन का, विज्ञान भवन, नई दिल्‍ली में आयोजित “कुशल भारत-2016” समारोह के दौरान भारत के माननीय राष्‍ट्रपति, श्री प्रणब मुखर्जी की गरिमामयी उपस्थिति में डॉ. जितेंद्र सिंह, राज्‍यमंत्री (स्‍वतंत्र प्रभार), अंतरिक्ष विभाग एवं श्री राजीव प्रताप रुडी कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्री (स्‍वतंत्र प्रभार) के बीच आदान-प्रदान किया गया था। माननीय मंत्री श्री वेंकैया नायडू (शहरी विकास), श्रीमती स्‍मृति ईरानी (कपड़ा) एवं श्री प्रकाश जावड़ेकर (मानव संसाधन विकास) ने भी अपनी उपस्थिति से इस कार्यक्रम की शोभा बढ़ाई। 

“कुशल भारत-2016” समारोह के दौरान भारत के माननीय राष्‍ट्रपति श्री प्रणब मुखर्जी अंतरराष्‍ट्रीय कौशल केंद्र का विमोचन करते हुए